TECHNOLOGY

By subhash
Last update:

सॉफ्टवेयर क्या हैं – What is Software(आसान भाषा में)

सॉफ्टवेयर क्या है- what is software (1)

अगर आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल का उपयोग करते हैं तो आपने कभी ना कभी सॉफ्टवेयर के बारे में जरूर सुना होगा। लेकिन क्या आपको मालूम है कि सॉफ्टवेयर क्या होता है? (What is software)

अभी तक कंप्यूटर के इतिहास और कंप्यूटर पीढ़ियों के बारे में नहीं पड़ा तो कृपया जा कर पढ़ें । क्योंकि इस पोस्ट में कंप्यूटर से जुड़ी बहुत सी रोमांचक और informational चीजें बताई गई है।

सॉफ्टवेयर क्या है- what is software (1)

आज किस पोस्ट में हम इसी टॉपिक के बारे में बात करेंगे और इसे आसान भाषा में समझने की कोशिश करेंगे।

सॉफ्टवेयर क्या हैं – What is Software in Hindi

सॉफ्टवेयर एक प्रकार से  निर्देशों का एक संग्रह है जिसे एक better performance  तथा एक अच्छी तरह से परिभाषित कार्य करने के लिए डिजाइन किया गया होता है।जो उपयोगकर्ता को कंप्यूटर, उसके हार्डवेयर या कार्य करने में सक्षम बनाता है। सॉफ्टवेयर के बिना, अधिकांश कंप्यूटर बेकार होंगे। software को अक्सर दो प्रमुख श्रेणियों में विभाजित किया जाता है, system software  जो कंप्यूटर के  basic non-task-specific functions  प्रदान करता है,, और application software  जो users द्वारा विशिष्ट कार्यों को पूरा करने के लिए उपयोग किया जाता है।

सॉफ्टवेयर को आमतौर पर  programs or apps के नाम से जाना जाता है इसमें सभी instruction  होते हैं जो हार्डवेयर को बताता है कि किसी काम को कैसे perform करना है।

सॉफ्टवेयर  ही काम को करने में सक्षम होते हैं इसके विपरीत हार्डवेयर सिर्फ मैकेनिकल कार्य के लिए डिजाइन किए गए होते हैं सॉफ्टवेयर एक ही मूल हार्डवेयर के साथ कई अलग-अलग कार्यों को पूरा  करता है।

इसमें हमें दो तरह के सॉफ्टवेयर देखने को मिलते हैं:

  1. System software 
  2. Application software 

सिस्टम सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर क्या है?

चलिए हम एक-एक करके समझते हैं…..

सिस्टम सॉफ्टवेयर क्या है?

सिस्टम सॉफ्टवेयर एक प्रकार का कंप्यूटर प्रोग्राम है जिसे कंप्यूटर के हार्डवेयर और एप्लिकेशन प्रोग्राम को चलाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यदि हम कंप्यूटर सिस्टम को एक स्तरित मॉडल के रूप में सोचते हैं, तो सिस्टम सॉफ़्टवेयर हार्डवेयर और उपयोगकर्ता अनुप्रयोगों के बीच का इंटरफ़ेस है। ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) सिस्टम सॉफ्टवेयर का सबसे प्रसिद्ध उदाहरण है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर का काम कंप्यूटर के processing capabilities को संचालित, नियंत्रित और विस्तारित करने का होता है।

system software examples 

boot program कंप्यूटर की main memory  या random access memory (RAM) में ऑपरेटिंग सिस्टम को लोड करता है।

डिवाइस ड्राइवर एक विशेष प्रकार के उपकरण को नियंत्रित करता है  आपके कंप्यूटर से जुड़े चीजों को जैसे कि कीबोर्ड या माउस।

BIOS (बेसिक इनपुट / आउटपुट सिस्टम) को चालू करने के बाद कंप्यूटर सिस्टम शुरू हो जाता है और ऑपरेटिंग सिस्टम औरattached devices जैसे hard disk, video adapter, keyboard, mouse and printer के बीच डेटा प्रवाह का प्रबंधन करता है।

features of a system software

  • Close to the system
  • Fast in speed
  • Difficult to design
  • Difficult to understand
  • Less interactive
  • Smaller in size

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर क्या है?

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर एक प्रकार का कंप्यूटर प्रोग्राम है जो एक विशिष्ट व्यक्तिगत, शैक्षिक और व्यावसायिक कार्य करता है। प्रत्येक कार्यक्रम को एक विशेष प्रक्रिया के साथ उपयोगकर्ता की सहायता के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो उत्पादकता, रचनात्मकता और / या संचार से संबंधित हो सकता है।

 Application Software Examples

कुछ ऐसे एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के नाम जो हर दिन लाखों लोगों द्वारा  उपयोग किए जाते हैं:

  • internet browsers जैसे Firefox, Safari, and Chrome
  • Microsoft suite के products example-Office, Excel, Word, PowerPoint, Outlook, etc.
  • Mobiles के software  जैसे music player, Skype etc 

Feature of applications software 

  • managing information
  • manipulating data
  • constructing visuals
  • coordinating resources
  • calculating figures

सिस्टम सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में क्या अंतर है?

एप्लीकेशन और सॉफ्टवेयर में अंतर

  1. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर विशिष्ट कार्यों के लिए बनाया गया है।
  2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को बनाने के लिए top level के language का उपयोग किया जाता है।
  3. यह एक प्रकार का specific purpose software  है।
  4. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर बिना सिस्टम सॉफ्टवेयर के काम कर सकते हैं।
  5. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर यूजर के रिक्वेस्ट पर काम करता है।

एप्लीकेशन और सॉफ्टवेयर में अंतर

  1. सिस्टम सॉफ़्टवेयर system resources को maintain रखता है और एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर को चलाने के लिए path देता है।
  2. system software लिखने के लिए Low-level languages का उपयोग किया जाता है।
  3. यह एक general-purpose सॉफ्टवेयर है।
  4. आपका सिस्टम बिना सिस्टम सॉफ्टवेयर के काम नहीं कर सकता।
  5. सिस्टम सॉफ्टवेयर सिस्टम की चालू रहने पर ही काम करता है और बंद होने पर काम करना बंद कर देता है।

Read more

कंप्यूटर की पीढियां-computer generation in Hindi (पूरी जानकारी )

computer generation in hindi

कंप्यूटर में जब नए तकनीकी परिवर्तन(vacuum tube,transistors and microprocessor) हुए तो कंप्यूटर पीढ़ियां(computer generation in hindi) भी बदलती चली गई।

 1940 से लेकर अभी तक 5 generation of computer है जो कि आपको नीचे एक-एक करके समझाएं गए हैं।

computer generation in hindi

पहली पीढ़ी के कंप्यूटर-computer generation in hindi

1946-1959 यह पहली पीढ़ी के कंप्यूटर की अवधि है। J.P.Eckert और J.W. Mauchy ने ENIAC नामक पहला सफल इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर का आविष्कार किया था, ENIAC का अर्थ इलेक्ट्रॉनिक न्यूमेरिक इंटीग्रेटेड एंड कैलकुलेटर(Electronic Numeric Integrated And Calculator) है।

पहली पीढ़ी के कंप्यूटरों के उदाहरणों में ENIAC, EDVAC, UNIVAC, IBM-701 और IBM-650 शामिल हैं। ये कंप्यूटर बड़े और बहुत अविश्वसनीय थे। यह कंप्यूटर से बड़े होने के कारण बहुत गर्म होते थे जिसके कारण बार-बार बंद हो जाते थे और केवल बहुत बुनियादी गणनाओं के लिए उपयोग किया जा सकता था।

पहली पीढ़ी के कंप्यूटरों में टेक्नोलॉजी के एक प्रमुख टुकड़े के रूप में vacuum tubes का उपयोग किया जाता था । 1940 से 1956 के बीच तक कंप्यूटर में vacuum tubes का व्यापक रूप से उपयोग किया गया।

पहली पीढ़ी के कंप्यूटर
Vacuum tubes

दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर- Second generation computer

second generation के कंप्यूटर में ट्रांजिस्टर का उपयोग किया जाता था जो सस्ती होने के साथ-साथ कम बिजली खपत और आकार में अधिक कॉन्पैक्ट थी। ट्रांजिस्टर का उपयोग करने वाला पहला कंप्यूटर TX-0 था, और इसे 1956 में पेश किया गया था। ट्रांजिस्टर का इस्तेमाल करने वाले अन्य कंप्यूटरों में IBM 7070, Philco Transac S-1000 और RCA 501 शामिल हैं।

दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर वेक्यूम ट्यूब से बने पहली पीढ़ी के कंप्यूटर से ज्यादा विश्वसनीय और तेजी से काम करती। इन कंप्यूटरों में Assembly or assembler language का use किया गया। 

दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर
ट्रांजिस्टर

 

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर- Third generation computer

तीसरी पीढ़ी का कंप्यूटर जिनकी अवधि 1965 से 1971 तक थी ।  तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर ट्रांजिस्टर की जगह Integrated Circuits (ICs) का उपयोग करते। एक IC में associated circuitry के साथ  कई transistors, resistors, and capacitors होते हैं। कंप्यूटरों में IC का उपयोग करने से दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों की तुलना में कंप्यूटरों के आकार को कम करने में मदद मिली, साथ ही साथ उन्हें तेज भी बनाया।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर दोनों पीढ़ियों के  कंप्यूटर के मामले कम ऊर्जा खर्च करते, साथ ही बेहतर गति और नैनो सेकंड में  डाटा की गणना कर सकते थे head discharge नुकसान को रोकने के लिए fan का उपयोग किया जाता। इसके रखरखाव में कम पैसे खर्च करने पड़ते।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर- Third generation computer 
IC (integrated circuits)

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर-Fourth generation computer

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर 1971 से 1980 के बीच थे चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर अपने कंप्यूटरों में VLSI technology या Very Large Scale Integrated (VLSI) circuits technology का उपयोग किया करते थे इसलिए  इन्हें माइक्रोप्रोसेसर के नाम से भी जाना जाता था।

Intel पहली कंपनी थी  जिसने माइक्रोप्रोसेसर को डिवेलप किया था।

 इसने एक ही समय में कंप्यूटर का आकार और कीमत कम कर दी, जिससे शक्ति, दक्षता और विश्वसनीयता बढ़ गई। 1971 में विकसित इंटेल 4004 चिप ने एकीकृत सर्किट को एक छोटे चिप पर कंप्यूटर के सभी घटकों (केंद्रीय प्रसंस्करण इकाई, मेमोरी और इनपुट / आउटपुट कंट्रोल) को रखकर एक कदम आगे बढ़ाया।

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर-Fourth generation computer 

अगर हम चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर के विशेषताओं के बारे में बात करें तो सबसे बड़ी विशेषता इसकी अकार थी  जो microprocessor technology / VLSI के कारण संभव हुआ।

  • सस्ते दामों में उपलब्ध.
  • आकार में छोटे.
  • किसी भी प्रकार के व्यक्ति के लिए उपलब्ध.
  • Basic computer knowledge.
  • कोई air conditioning की जरूरत नहीं.
  • Commercial Production.

computer generation in hindi – पांचवी पीढ़ी कंप्यूटर

पांचवी पीढ़ी की अवधि 1980 से लेकर अभी तक चल रही है। पांचवी पीढ़ी में VLSI technology को विकसित कर ULSI (Ultra Large Scale Integration) technology मे चेंज कर दिया गया है।

artificial intelligence(AI) कंप्यूटर अभी विकास में है लेकिन हमें कुछ आर्टिफिशियल टेक्नोलॉजी देखने को मिल रही है और इसका उपयोग भी आजकल लोग कर रहे हैं जैसे गूगल में voice search.

पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटरों  ने अभी एआई टेक्नोलॉजी का उपयोग करना शुरू किया है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस अभी अपने शुरुआती स्तर पर है और उम्मीद है कि आने वाले समय में यह हमारे टेक्नोलॉजी को और एडवांस बनाने में मदद करेगा।

पांचवी पीढ़ी कंप्यूटर- Fifth generation computer 

Read more

कंप्यूटर का इतिहास-computer history in Hindi( पूरी जानकारी )

कंप्यूटर का इतिहास-computer history in Hindi

कंप्यूटर जितना रोचक उपकरण है उतना ही कंप्यूटर का इतिहास  भी। 

अक्सर हम से क्वेश्चन पूछे जाते हैं? कि कंप्यूटर क्या होता है जिस काम simple सा answer बता सकते हैं कि कंप्यूटर कोई भी उपकरण है जो मनुष्य के विभिन्न प्रकार की संगणना या गणना करने में सहायता करता है।

कंप्यूटर का इतिहास-computer history in Hindi

लेकिन यहां हमारा प्रश्न खत्म नहीं होता, अगर आप कंप्यूटर के स्टूडेंट तो आपको कंप्यूटर के इतिहास(History of computer Hindi) के बारे में भी मालूम होना चाहिए।

कंप्यूटर के इतिहास में बहुत सी ऐसी बातें हैं जो आपका दिमाग हिला कर रख देंगी अगर आप इसके इतिहास के बारे में जानते हैं तो अच्छा है अगर आप इस पोस्ट को लास्ट तक पढ़ते हैं तो आप इसकी इतिहास को अच्छे से जान पाएंगे और बहुत ही रोचक बातें जो आपको शायद ना मालूम हो।

कंप्यूटर का इतिहास-computer history in Hindi 

कंप्यूटर शब्द का पहला उपयोग 1613 एसपी में गणना करने वाले व्यक्ति के लिए किया गया था और दुनिया बीसवीं शताब्दी तक इस शब्द का अर्थ इसी काम से जानती थी।

Tally sticks 

बैलिस्टिक एक प्रकार का प्राचीन समृद्धि सहायक उपकरण था जिसकी सहायता से दस्तावेज, संख्या मात्रा या संदेश को रिकॉर्ड किया जाता था।

tally stick

Abacus 

Abacus एक मैथमेटिकल डिवाइस था जिसका उपयोग जो किसी व्यक्ति को गणितीय गणना करने में सहायता प्रदान करता था इसकी खोज मे 2400 ईस्वी पूर्व मे हुई थी यह बुनियादी अंकगणित ऑपरेशन करता था।

abacus computer history
abacus

Napier’s bones- computer History in Hindi

John napier नेस की खोज 1614 में की। यह multiply, divide और calculate square करने में सहायक था।

naoier bones computer history
Naoier bones

Slide rule 

Slide rule, napier’s के विचार पर आधारित था इसका उपयोग मुख्य रूप से multiplication , division , roots  logarithms और Trigonometry के लिए किया जाता था लेकिन इसमें प्रॉब्लम थी कि आप इसका उपयोग जोड़ या subtraction में में नहीं कर सकते थे।

slide rule कंप्यूटर का इतिहास
slide rule

Stepped recliner – computer History in Hindi 

मशीन स्वचालित रूप से जोड़ घटाव गुणा और भाग कर सकती थी इसका आविष्कार Gottfried Wilhelm Leibniz द्वारा 1672 में हुआ।

stepped recliner computer history hindi
Stepped recliner

Jacquard Loom

Joseph-Marie Jacquard  द्वारा आविष्कार किया गया और 1801 में प्रदर्शित किया गया, जैक्वार्ड लूम पावर्ड  fabric looms  के लिए एक लगाव है। यह जटिल वस्त्रों को बनाने के लिए loom को निर्देश देने के लिए punch cards  की एक श्रृंखला का उपयोग करता है। इस डिजिटल संस्करण का उपयोग loom के लिए स्कैन का कपड़ा संस्करण बनाने के लिए निर्देश बनाने के लिए किया जाता है

jacquard loom hindi computer history
jacquard loom

Arithmometer- History of computer in Hindi

यह पहला डिस्टर्ब मकैनिक केलकुलेटर तो जो काफी मजबूत और विश्वास करने लायक डिवाइस था जिसका उपयोग कार्यालय वातावरण में प्रतिदिन किया जाता था

अरिथमोमीटर 1820 में फ्रांस के Charles Xavier Thomas de Colmar ने किया था।

 History of computer in Hindi
Arithmometer

Analytical Engine – computer history in Hindi 

analytical engine -कंप्यूटर का इतिहास
analytical engine

एनालिटिकल इंजन एक प्रस्तावित मैकेनिकल सामान्य-उद्देश्य वाला कंप्यूटर था जिसे अंग्रेजी गणितज्ञ और कंप्यूटर अग्रणी चार्ल्स बैबेज ने डिजाइन किया था। एनालिटिकल इंजन चार्ल्स बैबेज की सबसे सफल उपलब्धियों में से एक है।

पहले स्वचालित डिजिटल कंप्यूटर की कल्पना करने के अलावा, बैबेज ने अन्य क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान दिया। उन्होंने इंग्लैंड में आधुनिक डाक प्रणाली की स्थापना में सहायता की और पहले विश्वसनीय एक्चुअरी टेबल का संकलन किया। उन्होंने एक प्रकार के स्पीडोमीटर और लोकोमोटिव काउचचर का भी आविष्कार किया।

कंप्यूटर की पीढ़ियाँ

कंप्यूटर की हर पीढ़ी हमें एक नई टेक्नोलॉजी से अवगत कराती है और हमें बताती है कि  इन टेक्नोलॉजी की मदद से कंप्यूटर अपने आप को कैसे विकसित करते गए।

  1.  First Generation : 1940 – 1956  – Vacuum Tubes
  2.  दूसरी पीढ़ी : 1956 – 1963 – ट्रांजिस्टर
  3. तीसरी पीढ़ी : 1964 – 1971: – एकीकृत सर्किट
  4. चौथी पीढ़ी : 1972 – 2010 – माइक्रोप्रोसेसरों
  5. पांचवीं पीढ़ी : 2010- now – Artificial Intelligence

आपने क्या सीखा?

computer history in hindi

मुझे उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट अच्छा लगा होगा मैंने इस आर्टिकल के सहारे कई बातें आपके साथ साझा की।

अगर आपने इस पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक पढ़ा है तो मुझे कमेंट सेक्शन में बताएं आपको कंप्यूटर के इतिहास में से सबसे रोचक कंप्यूटर कौन सा लगा?

Read more

DMCA.com Protection Status