Bihar ki rajdhani kahan hai: बिहार की राजधानी कहां है?

Published On:

अगर आप bihar ki rajdhani kahan hai?  इस प्रश्न का उत्तर ढूंढ रहे हैं तो आप सही जगह पर आए हैं क्योंकि हम आज इस पोस्ट में बिहार की राजधानी कहां है इस प्रश्न के साथ बिहार की राजधानी से जुड़े सभी महत्वपूर्ण बातों के बारे में बात करेंगे.

अगर आप बिहार के गौरव को जानना चाहते हैं तो आपको सिर्फ बिहार की राजधानी कहां हैं इसके साथ आपको बिहार की राजधानी के बारे में भी एक अच्छी जानकारी होनी चाहिए.

 तो इसे जानने के लिए हम बिहार की राजधानी कहां है? बिहार के राजधानी का इतिहास उसके विस्तार और उसके महत्व को समझने की कोशिश करेंगे.

 तो चले सबसे पहले जानते हैं कि बिहार की राजधानी क्या है और कहां है.

बिहार की राजधानी कहां है? – Bihar Ki Rajdhani Kahan Hai

bihar ki rajdhani kahan hai
Bihar Ki Rajdhani?

बिहार की राजधानी पटना है. पटना बिहार राज्य की राजधानी और सबसे बड़ा शहर है। पटना जिले में गंगा और सोन जैसी नदियों ने उपजाऊ खेती योग्य भूमि का निर्माण किया है। पटना कृषि प्रधान जिला है। 

पटना में कई धर्मों के महत्वपूर्ण स्थान भी स्थित हैं। पटना शहर के पास प्राचीन बौद्ध और जैन तीर्थ स्थल वैशाली, राजगीर, नालंदा, बोधगया हैं। 

पटना सिखों का पवित्र स्थान भी है। सिखों के दसवें और अंतिम गुरु गोविंद सिंह का जन्म पटना में हुआ था। हर साल देश-विदेश से हजारों की संख्या में सिख श्रद्धालु हरमंदिर साहब के दर्शन करने पटना आते हैं।

👉 बिहार का मुख्यमंत्री कौन है और बिहार के मुख्यमंत्री की सूची?

👉 बिहार में कितने अनुमंडल है?

बिहार की राजधानी पटना का इतिहास?

मौर्य साम्राज्य के दौरान चौथी शताब्दी ईसा पूर्व में पटना की जड़ें हैं। प्रसिद्ध यूनानी यात्री मेगस्थनीज ने चंद्रगुप्त मौर्य के शासनकाल में आज के पटना का दौरा किया और अपनी पुस्तक “इंडिका” में उन्होंने मौर्य शासन और इस स्थान का भी उल्लेख किया है। 

प्राचीन काल में पटना को पाटलिपुत्र के नाम से जाना जाता था। कई इतिहासकारों का कहना है कि पाटलिपुत्र की भूमि बहुत उपजाऊ थी क्योंकि यह गंगा नदी के पास स्थित थी।

मुख्य रूप से नालंदा विश्वविद्यालय के कारण शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए छात्रों और विद्वानों द्वारा पाटलिपुत्र का अक्सर दौरा किया जाता था। 

बौद्ध अनुयायियों और भिक्षुओं ने भी बोधगया पहुंचने के लिए पाटलिपुत्र का दौरा किया, जहां गौतम बुद्ध ने ज्ञान प्राप्त किया था। इन सभी धार्मिक अर्थों के अलावा, पटना अपने मधुबनी चित्रों के लिए भी प्रसिद्ध है, जिन्हें रंगों के रूप में लकड़ी का कोयला, सब्जियों और मसालों का उपयोग करके बनाया गया था।

पटना ने नंद राजवंश, मौर्य साम्राज्य, गुप्त साम्राज्य और शुंग राजवंश जैसे विभिन्न साम्राज्यों की राजधानी के रूप में भी कार्य किया। गुप्त वंश के पतन के बाद, पटना पर मुगलों का नियंत्रण था, जिन्होंने तब पटना से प्रीमियम गुणवत्ता वाले चावल को अन्य देशों में निर्यात किया था। 

मुगलों के बाद, बंगाल के नवाब आए जो बाद में बक्सर की लड़ाई में अंग्रेजों से हार गए। ब्रिटिश शासन के दौरान पटना में कई शैक्षणिक संस्थानों और अदालतों का निर्माण किया गया था।

👉 वर्तमान में बिहार में कितने जिले हैं?

बिहार की राजधानी पटना महान संस्कृति का संक्षिप्त वर्णन:

पूर्व में पाटलिपुत्र के रूप में जाना जाने वाला, पटना समृद्ध परंपरा और आधुनिकतावाद के एक उल्लेखनीय मिश्रण की विशेषता है और इसे दुनिया के सबसे पुराने बसे हुए शहरों में से एक माना जाता है।

शहर सांस्कृतिक विरासत में डूबा हुआ है जो अपने अस्तित्व के पिछले 2,500 वर्षों में लगातार विकसित हुआ है। यह सिख धर्म, बौद्ध धर्म और जैन धर्म जैसे विभिन्न धर्मों के विकास को आकार दिया है।

आज, पटना एक महत्वपूर्ण व्यावसायिक केंद्र है और इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि नालंदा, बोधगया, वैशाली, राजगीर और पावापुरी के बौद्ध और जैन तीर्थस्थलों का प्रवेश द्वार है।
अपनी यात्रा की योजना बनाएं और पटना में किसी भी रुचिकर स्थान के पास एक होटल में ठहरने की बुकिंग करें ताकि यह अनुभव किया जा सके कि यह स्थान अपने अद्वितीय इतिहास और सांस्कृतिक उत्सव के साथ दुनिया भर के पर्यटकों को कैसे आकर्षित करता है।

बिहार की राजधानी पटना और उसके आसपास के प्रमुख आकर्षण कौन-कौन से हैं?

bihar capital patna famous place
Patna famous place

1. पटना का गोलघर (Golghar)

golghar

पटना शहर में स्थित, गोलघर एक आकर्षक गोदाम और स्मारक है जो इतिहास और सुंदरता के पूर्ण मिश्रण को दर्शाता है। इस गोदाम के ऊपर से शहर और गंगा नदी का मनोरम दृश्य दिखाई देता है। 1770 में अकाल के बाद, इस अन्न भंडार को ईस्ट इंडिया कंपनी की मदद से बनाया गया था।

2. पटना का महात्मा गांधी सेतु (Mahatma Gandhi Setu)

mahatma gandhi setu

भारत के दूसरे सबसे बड़े नदी पुल में से एक महात्मा गांधी सेतु असम में भूपेन हजारिका सेतु के बगल में है। पुल 5.7 किमी तक फैला है और इसका नाम राष्ट्रपिता मोहन दास करमचंद गांधी के नाम पर रखा गया था। यह पुल राजधानी पटना को उत्तर बिहार के हाजीपुर शहर से जोड़ता है।

3. पटना साहिब गुरुद्वारा (Patna Sahib Gurudwara)

इस गुरुद्वारे को गुरु गोबिंद जी की याद में बनाया गया था क्योंकि यह उनका जन्मस्थान था। गुरु गोबिंद सिंह जी सिखों के दसवें और अंतिम गुरु थे। कई अन्य सिख धर्मग्रंथ यहां देखे जा सकते हैं और यह सिख अधिकार के 5 तख्त या पवित्र स्थानों में से एक है। इसके अलावा, सालिस राय जौरी की कई हवेलियाँ हैं जिन्हें धर्मशाला में परिवर्तित कर दिया गया है क्योंकि वे गुरु नानक देव जी के प्रबल अनुयायी थे।

4. पटना का गांधी मैदान

गांधी मैदान राजधानी पटना में गंगा नदी के तट पर स्थित है और 60 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। मैदान ने कई स्वतंत्रता आंदोलनों, स्वतंत्रता रैलियों, परेडों और कई अन्य कार्यक्रमों को देखा। गांधी मैदान शहर का एक मील का पत्थर है जिसमें महात्मा गांधी की 72 फीट ऊंची कांस्य प्रतिमा है।

5. पटना में स्थित घूमने वाला रेस्टोरेंट (Revolving Restaurant)

सबसे बड़ा रिवॉल्विंग रेस्टोरेंट पटना के सबसे ऊंचे टावर बिस्कोमन भवन में स्थित है। जर्मन तकनीक से बना यह रेस्टोरेंट 45 से 90 मिनट तक घूम सकता है। रेस्तरां स्थानीय लोगों और पर्यटकों के लिए समान रूप से एक लोकप्रिय सप्ताहांत लंच या डिनर स्थान है।

6. पटना में संग्रहालय (Patna Museum)

पटना के स्थानीय लोग संग्रहालय को जादू घर कहते हैं। संग्रहालय में प्राचीन, मध्यकालीन और ब्रिटिश काल से संबंधित 50,000 से अधिक कला वस्तुओं का एक अनूठा संग्रह है। संग्रहालय का निर्माण 1917 में देश की समृद्ध विरासत को संरक्षित और प्रस्तुत करने के उद्देश्य से किया गया था।

बिहार की राजधानी पटना से जुड़ी कुछ रोचक बातें

  • पहले पटना को पाटलिपुत्र के नाम से जाना जाता था।
  • पटना न केवल बिहार की राजधानी है बल्कि इसका सबसे बड़ा शहर भी है।
  • पटना सिख धर्म के लोगों के लिए एक पवित्र शहर है क्योंकि यहीं पर सिखों के दसवें गुरु, गुरु गोबिंद सिंह का जन्म हुआ था।
  • मौर्य साम्राज्य और गुप्त साम्राज्य के समय में, पाटलिपुत्र (पटना) न केवल सत्ता की सीट थी, बल्कि भारतीय उपमहाद्वीप का सांस्कृतिक और राजनीतिक केंद्र भी था।
  • प्राचीन पटना,  पाटलिपुत्र, चाणक्य, आर्यभट्ट और वात्स्यायन जैसे कई प्रसिद्ध विद्वानों और खगोलविदों का घर था।
  • गुप्त साम्राज्य के पतन के बाद पटना ने अपना महत्व खो दिया। पटना के महत्व को 17वीं शताब्दी में अंग्रेजों द्वारा पुनर्जीवित किया गया था। इसे व्यापार के केंद्र के रूप में महत्व मिला।
  • 1912 में बंगाल प्रेसीडेंसी के विभाजन के बाद, पटना बिहार और उड़ीसा की प्रांतीय राजधानी बन गया।
  • पटना एक महत्वपूर्ण कृषि केंद्र और व्यापार का केंद्र है।
Photo of author
Author
subhash
Subhash Kumar is the Writer and editor in Jankari Center Who loves Shearing Informational content like this.

Leave a Comment

DMCA.com Protection Status